Breaking News

बारां:सोयाबीन की फसल पर सेमीलूपर एवं तम्बाकू लट की रोकथाम जरूरी

बारां 2 अगस्त। सोयाबीन फसल फुल आने की अवस्था पर चल रही है। मौसम साफ होने व तापमान बढने के कारण सेमीलूपर, तम्बाकु लट एवं पीलियां रोग लगने की सम्भावना है। अतः किसान भाईयो को सलाह दी जाती है कि किसान भाई 5-7 दिन के अर्न्तराल पर फसलो का नियमित देखभाल करे।
प्रकोप दिखाई देने पर निम्न उपाय अपनाये-
सेमीलूपर एवं तम्बाकु लट के प्रभावी नियंत्रण हेतु ईमामैक्टिन बैन्जोएट 5 एसजी की 180 ग्राम मात्रा अथवा इण्डोक्साकार्व 15.8 ई.सी. की 300 मिली मात्रा को 500 लीटर पानी में घोलकर छिड़काव करें। आर्थिक दृष्टि से क्लोरोपाइरीफॉस 20 ई.सी. या क्यूनॉलफॉस 25 ई.सी. की 1.5 लीटर मात्रा को 500 लीटर पानी में घोलकर छिड़काव करने से लागत में कमी आती है एवं प्रभावी नियंत्रण भी किया जा सकता है।
रैपिड रोविंग टीम द्वारा बारां जिले के किशनगंज तहसील के रानीबडोद, फल्दी, बांसथुनी, भंवरगढ व रामपुरिया़ क्षेत्र में भ्रमण किया गया। वैज्ञानिको द्वारा उड़द/सोयाबीन फसल में पीलियां रोग का प्रकोप देखने में आया है। कृषकों को सलाह दी जाती है कि प्रभावित पौधो को उखाडकर जला देवे अधिक प्रकोप बढने पर डाईमिथोएट 30 ई.सी. की 1 लीटर मात्रा को 500 लीटर पानी में घोलकर छिड़काव करें। जिससे पीलिया रोग को फैलाने वाली सफेद मक्खी को नष्ठ कर पीलिया रोग को नियंत्रित किया जा सकें। रैपिड रोविंग टीम में डॉ. दिनेश ंिसंह पौध व्याधी विशेषज्ञ, डॉ. देवेन्द्र धाकड कीट वैज्ञानिक, उमाशंकर कृषि अधिकारी, दुष्यंत सिंह सहायक कृषि अधिकारी किशनगंज शामिल है। अधिक जानकारी हेतु जनदीकी कृषि कार्यालय में सम्पर्क करें एवं कीटनाशी दवा की खरीद करते समय बिल अवश्य लेवे।

Check Also

पुर्नगठित मौसम आधारित फसल बीमा योजना में अमरूद की फसल शामिल

🔊 इस खबर को सुने बारां, 28 जुलाई। जिले में राजस्थान सरकार एवं भारत सरकार …

error: Content is protected !!