Breaking News

केलवाड़ा वन भूमि पर भू माफिया अवैध खनन कार्य को धड़ल्ले से दे रहे अंजाम। अवैध खनन से वन भूमि पर हरियाली हो रही गुमनाम।। जिम्मेदार विभाग के आला अधिकारी बेखबर। क्षेत्रीय वन अधिकारी कार्यालय पर कार्रवाई नहीं होने पर आंदोलन की दी चेतावनी।

 

रिपोर्ट राज सुमन

केलवाड़ा(बारां):- एक और तो राजस्थान की गहलोत सरकार लाखों करोड़ों रुपए का बजट जारी कर राजस्थान को हरा भरा बनाने के लिए प्रयासरत है तो वहीं दूसरी ओर केलवाड़ा वन रेंज क्षेत्र के आदिवासी अंचल क्षेत्र में वन भूमि पर धड़ल्ले से अवैध खनन कार्य को भू माफिया जेसीबी और ट्रैक्टर ट्रॉलीओं से अंजाम देने में लगे हुए हैं इनके खिलाफ कोई प्रभावी कार्रवाई नहीं होने के कारण अवैध खनन कर्ताओं के हौसले बुलंद हो रहे हैं और अवैध खनन कार्य का धंधा जोरों पर फल फूल रहा है वन विभाग के कर्मचारी और आला अधिकारी को इस मामले की जानकारी होने पर भी मूकदर्शक बने हुए हैं इसके चलते सैकड़ों बीघा सघन वन क्षेत्र में हरे पेड़ो की संख्या में कमी दर्ज की जा रही है वही अवैध खनन के चलते वन भूमि क्षेत्र का स्वरूप भी बदसूरत होता जा रहा है इसके चलते जंगली क्षेत्र मैदानी क्षेत्र में तब्दील होकर गहरी खाईयों में तब्दील नजर आ रहा है इसके चलते जंगली जानवरों के जीवन पर भी संकट के बादल छाए हुए हैं जंगली क्षेत्र का घनत्व कम होने के कारण जंगली जानवर गांवों की ओर रुख कर रहे हैं और अकाल मौत के शिकार हो रहे हैं पर्यावरण प्रेमीयो द्वारा इस संबंध कई बार वन विभाग के उच्चाधिकारियों और स्थानीय कर्मचारियों को अवगत भी करा दिया है लेकिन अवैध खनन का काला कारोबार थमने का नाम नहीं ले रहा है इससे साफ अंदाजा लगाया जा सकता है कि वन विभाग के स्थानीय कर्मचारी और अधिकारियों की सांठगांठ के चलते अवैध खनन का धंधा जोरो जोरो पर फल फूल रहा है आखिरकार वन विभाग के जिम्मेदार आला अफसर इस मामले को लेकर क्यों कार्रवाई नहीं कर रहे हैं और धड़ल्ले से वन भूमि क्षेत्र में अवैध खननकर्ता अवैध कारगुजारियों को अंजाम देने से बाज नहीं आ रहे हैं और पर्यावरण का संतुलन बिगड़ता जा रहा है जो मानव जाति के लिए विनाश का कारण बन सकता है अवैध खनन हरे पेड़ों की कटाई को लेकर पर्यावरण प्रेमियों में वन विभाग के प्रति रोष बना हुआ है पर्यावरण प्रेमियों ने राजस्थान संपर्क हेल्पलाइन 181 पर इस मामले की शिकायत दर्ज कराई है और वन विभाग के और अवैध खनन कर्ताओं के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है। इस संबंध में क्षेत्रीय वन अधिकारी तरुण रावत को कई बार मोबाइल के जरिए संपर्क किया गया लेकिन उन्होंने फोन अटेंड नहीं किया और जिला वन मंडल अधिकारी चेतन को भी फोन पर संपर्क इस मामले को लेकर कई बार किया गया लेकिन उन्होंने भी फोन अटेंड नहीं किया इसलिए संपर्क नहीं हो सका।

 

बॉक्स
अवैध खननकर्ता वन भूमि का बिगाड़ रहे स्वरूप:- केलवाड़ा क्षेत्रीय वन कार्यालय से महज 500 से 1000 मीटर की दूरी पर वन भूमि क्षेत्र में जेसीबी और ट्रैक्टर ट्रॉली की सहायता से अवैध खननकर्ता खनन कार्य को अंजाम देने में लगे ना अवैध खनन कर्ताओं को वन विभाग के आला अधिकारियों को खूब है और ना ही वन भूमि को नुकसान पहुंचाने का फॉरेस्ट विभाग के नियम कानूनों को ताक पर रखकर अवैध तरीके से अवैध खनन कर हरे पेड़ों और वनभूमि का स्वरूप बिगाड़ने में लगे हुए हैं इनके खिलाफ कोई कार्यवाही नहीं हो रही है इसके चलते रोज दिन और रात दर्जनों की तादाद में जेसीबी मशीनों की सहायता से अवैध खनन कार्य को अंजाम दिया जा रहा है आखिर क्यों कार्यवाही नहीं की जा रही है अवैध खनन कार्य को अंजाम देने वाले भू माफिया किसके इशारे पर वन भूमि को छलनी करने में लगे हुए हैं यह सबसे बड़ा सवाल बना हुआ है।

बॉक्स 2
अवैध खनन कर्ताओं पर कार्रवाई नहीं हुई तो क्षेत्रीय वन अधिकारी कार्यालय पर किया जाएगा प्रदर्शन:-
केलवाड़ा वन रेंज क्षेत्र के जंगलों में भू माफिया अवैध खनन करने से बाज नहीं आ रहे हैं इसकी शिकायत पर्यावरण प्रेमियों और समाजसेवियों द्वारा कई बार जिम्मेदारों से की गई है लेकिन अभी तक उनके कानों में जूं तक नहीं रेंगी है अगर 8 दिवस के अंदर में अवैध खनन कर्ताओं के खिलाफ वन विभाग के आला अधिकारियों द्वारा नहीं नहीं की गई और अवैध खनन कार्य को नहीं रोका गया तो पर्यावरण प्रेमी और समाजसेवी क्षेत्रीय वन अधिकारी कार्यालय पर पहुंचकर धरना और प्रदर्शन करेंगे जिसकी जिम्मेदारी प्रशासन की होगी लोगों ने जिला कलेक्टर और जिला वन मंडल अधिकारी से अवैध खनन कर्ताओं के खिलाफ उचित कार्रवाई करने की मांग की है।

1
केलवाड़ा वन क्षेत्र में जेसीबी और ट्रैक्टर ट्रॉली ओं की सहायता से अवैध खनन कार्य को दिन-रात भूमाफिया अंजाम दे रहे हैं इससे धरती का स्वरूप बिगड़ता जा रहा है और हरियाली को भी नुकसान पहुंच रहा है वन विभाग को इसस और प्रभावी रूप से ध्यान देना चाहिए।
पंकज कुशवाहा वन्यप्रेमी

2
अवैध खनन केलवाड़ा वन क्षेत्र में जोरो जोरो से फल फूल रहा है इसकी कई बार शिकायत भी की गई है लेकिन कार्रवाई नहीं होने के कारण अभी खनन कार्य नासूर बनता जा रहा है आखिर क्यों जिम्मेदार इस मामले से अनजान बने हुए हैं।
राहुल जोधा पर्यावरण प्रेमी

3
अवैध खनन कार्य पर अंकुश नहीं लगने के कारण पर्यावरण को खतरा पहुंच रहा है साथ ही वन क्षेत्र का स्वरूप भी बिगड़ता जा रहा है वन विभाग के आला अधिकारी इस मामले को लेकर मूकदर्शक बने हुए हैं।
रविंद्र कुमार सामाजिक कार्यकर्ता

4
केलवाड़ा वन क्षेत्र में अवैध खनन से हरियाली भी नष्ट होती जा रही है जंगलों का घनत्व कम हो रहा भू माफियाओं के खिलाफ कार्रवाई नहीं होने के कारण लोगों में रोष बना हुआ है अगर 8 दिन में कार्रवाई को अंजाम नहीं दिया गया तो क्षेत्रीय वन अधिकारी कार्यालय पर धरना प्रदर्शन किया जाएगा।
टिंकू सामाजिक ग्रामीण

5
केलवाड़ा वन क्षेत्र में अवैध खनन चल रहा है तो मामले की जांच कर कारवाई करेंगे।
रामनारायण शाक्यवाल फॉरेस्ट केलवाड़ा

Check Also

जिला प्रमुख आपके द्वार’’ ग्राम पंचायत बांसथूनी एवं मुण्डियर में शिविर का आयोजन 16 मार्च को

🔊 इस खबर को सुने ‘‘जिला प्रमुख आपके द्वार’’ ग्राम पंचायत बांसथूनी एवं मुण्डियर में …

error: Content is protected !!