Breaking News
????????????????????????????????????

सरकारी दफ्तरों में नो टोबको अभियान को सुनिश्चित किया जाए – कलक्टर जिला तम्बाकू नियंत्रण समन्वय समिति की बैठक हुई

बारां, राजस्थान अभियान के तहत तंबाकू मुक्त राजस्थान 100 दिवसीय कार्य योजना को लेकर बुधवार को जिला कलक्टर नरेन्द्र गुप्ता की अध्यक्षता में जिला तम्बाकू नियंत्रण समन्वय समिति की बैठक हुई। इसमें चिकित्सा विभाग के साथ पुलिस विभाग, शिक्षा विभाग, पंचायतीराज विभाग, महिला एवं बाल विकास विभाग, सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग, रसद विभाग, बाल अधिकारिता विभाग, श्रम विभाग अधिकारियों सहित स्वंयसेवी संस्थाओं के प्रतिनिधि शामिल हुए। इसमें तम्बाकू नियंत्रण के लिए जन जागरुकता को लेकर सुझाव लिए गए। तम्बाकू सेवन की रोकथाम के लिए 100 दिन अभियान में प्रभावी कार्रवाई के निर्देश कलेक्टर ने दिए हैं। डीपीओ महेंद्र शर्मा के द्वारा पीपीटी के जरिए तंबाकू मुक्त राजस्थान 100 दिवसीय कार्ययोजना पर प्रकाश डाला
सीएमएचओ डॉ. संपतराज नागर ने बताया कि भारत में सालाना 13 लाख लोगों की मृत्यु होती है। हर दिन 3500 लोगों की मृत्यु होती है। यह टीबी, एचआईवी एड्स, मलेरिया से अधिक है। कलक्टर गुप्ता ने कहा कि शैक्षणिक संस्थान के परिसर में तंबाकू मुक्त क्षेत्र के साइनेज का प्रदर्शन किया जाए। प्रवेश सीमा पर तंबाकू मुक्त शिक्षा संस्थान साइनेज का प्रदर्शन हो। शैक्षणिक संस्थान परिसर में तंबाकू उत्पादों के उपयोग का कोई सबूत नहीं होना चाहिए। सिगरेट, बीड़ी के टुकड़े, गुटका, तंबाकू पाउच दीवारों पर थूकने के निशान नहीं हो। तंबाकू उत्पाद बेचने की दुकान शैक्षणिक संस्थान के 100 गज में नहीं होनी चाहिए। प्रत्येक महीने के आखरी दिन बारां शहर में तंबाकू उत्पादों की बिक्री और सेवन पूरी तरह से प्रतिबंधित रहेगा। इस दौरान कोई बिक्री करते पाया गया या सेवन करते पाया गया, तो उसका चालान काटा जाए। इसके लिए टीमें गठित करके प्रभावी मॉनिटरिंग सुनिश्चित की जाए। तंबाकू नियंत्रण को लेकर प्रत्येक ब्लॉक में भी इसी प्रकार अभियान चलाया जाए।

????????????????????????????????????

कोटपा लागू करने की जिम्मेदारी उप निरीक्षक और उप निरीक्षक पद से वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों की है। अन्न और औषधि प्रशासन अधिकारी, साथ ही केंद्र और राज्य सरकार की ओर से कोटपा में कार्रवाई करने के लिए अधिकृत व्यक्ति सक्षम है। धूम्रपान से विभिन्न रोगों का जोखिम है। फेफड़ों का कैंसर, धूम्रपान के कारण 80 से 90 प्रतिशत मौतें होती है। हदय रोग से 23 से 30 फीसदी मौतें होती है।
बैठक में जिला परिषद सीईओ कृष्णा शुक्ला, एएसपी विजय स्वर्णकार, महिला बाल विकास उपनिदेशक हरिशंकर नुबाद, शिक्षा विभाग प्रतिनिधि, डिप्टी सीएमएचओ (स्वास्थ्य) डॉ. अकबर अली बोहरा, डिप्टी सीएमएचओ (परिवार कल्याण) डॉ. सीताराम वर्मा, आरसीएचओ डॉ. जगदीश कुशवाह, डीपीएम दिलीप शर्मा, डीपीएम अरबन राकेश नागर, बीसीएमओ डॉ. अरविंद नागर, डॉ एसपी गर्ग, डॉ हरिसिंह, जिला आईईसी कोर्डिनेटर नीतू शर्मा, स्वंयसेवी संस्थाओं के प्रतिनिधि आदि मौजूद थे।

Check Also

बारां:आयुर्वेद चिकित्सकों ने संगोष्ठी कर मनाई महर्षि चरक जयंती

🔊 इस खबर को सुने बारां 2 अगस्त। ब्लॉक के आयुर्वेदिक चिकित्सा अधिकारियों द्वारा मंगलवार …

error: Content is protected !!