Breaking News

तेलनी विद्यालय में कक्षा कक्षों का अभाव, खुले आसमान के नीचे पढ़ाई करने को मजबूर छात्र,शौचालय पानी के अभाव में बदहाल और खंडहर में तब्दील।

अनिल भार्गव

 

शाहबाद

(बारां):- बेहटा ग्राम पंचायत क्षेत्र के राजकीय बालिका उच्च प्राथमिक विद्यालय तेलनी में कक्षा कक्षों का अभाव होने के कारण स्कूल के छात्रों को खुले आसमान के नीचे अध्ययन करना मजबूरी का कारण बना हुआ है बरसात के दिनों में छात्रों को काफी परेशानियों से जूझना पड़ता है कई बार तो स्कूल की छुट्टी भी करनी पड़ती है क्योंकि भवन पुराने हैं छतों से पानी टपकता रहता है इसकी मरम्मत भी नहीं हुई है ऐसे में छात्रों के लिए सर्दी गर्मी और बरसात के मौसम में अध्ययन करने में काफी परेशानियों से जूझना पड़ता है इसको लेकर बच्चों के अभिभावकों ने कई बार शिक्षा विभाग के उच्चाधिकारियों को अवगत भी करा दिया है लेकिन समस्या का समाधान नहीं हुआ है वही स्कूल में 100 छात्रों का नामांकन है स्कूल एक से आठवीं तक संचालित है प्रधानाध्यापक का पद लंबे समय से रिक्त है ऐसे में कार्यवाहक के रूप में एक टीचर ने ही काम संभाल रखा है वही विद्यालय परिसर में बने शौचालय खंडर हो गए हैं और कुछ बचे हुए हैं जिनमें पानी के अभाव में बदहाल स्थिति बनी हुई है ऐसे में स्कूली छात्रों को शौचालय से संबंधित कई तरह की परेशानियों से जूझना पड़ता है सबसे ज्यादा समस्या बालिका छात्राओं को उठानी पड़ती है स्कूल भवन के लिए 5 बीघा जमीन अलॉटमेंट है लेकिन स्कूल एक बीघा जमीन पर ही संचालित हो रहा है स्कूल परिसर में पूर्व में बना आंगनवाड़ी भवन खंडर पड़ा हुआ है इसकी नीलामी के आदेश भी हो चुके हैं लेकिन अभी तक नीलामी नहीं हुई हैं इन खंडहरों में जहरीले जीव जंतुओं का बसेरा रहता है ऐसे में स्कूल के छात्रों को हमेशा डर बना रहता है स्कूल की भूमि पांच बीघा है उस पर लोगों ने कब्जा कर रखा है इसकी शिकायत प्रशासन गांव के संग शिविर में आवेदन कर अतिक्रमण को सीमा ज्ञान कराकर मुक्त कराने की गुहार लगाई गई थी। अरविंद मेहता राधेश्याम सुरेश चंद आदि ग्रामीणों ने बताया कि स्कूल में मात्र 4 कमरे हैं और एक से आठवीं तक की क्लास में संचालित होती हैं एक कमरे में विद्यालय का ऑफिस संचालित होता है तीन कमरों में एक 1 से 8 तक की क्लास में संचालित की जाती हैं और कुछ की कक्षाओं को पेड़ों की छांव में बिठाया जाता है विद्यालय क्रमोन्नत हो चुका है लेकिन भवन निर्माण शिक्षा विभाग द्वारा अभी तक नहीं कराया गया है ऐसे में कक्षा कक्षों की कमी होने के कारण शिक्षण व्यवस्था में काफी परेशानी होती है सरकार से विद्यालय में कक्षा कक्ष निर्माण कराने की लोगों ने मांग की है ताकि गांव के नौनिहालों का भविष्य ठीक से शिक्षित हो सके वही कार्यवाहक प्रधानाध्यापक संजय मीणा ने बताया कि भवनों की मरम्मत के लिए पंचायत में प्रस्ताव दे रखे हैं कक्षा कक्षों की कोई कमी नहीं है चार कमरे हैं एक मेंं ऑफिस संचालित है तीन कमरों में और खुले आसमान के नीचे बच्चों को बिठाकर पढ़ाई कराई जाती है तो वही छात्रों के अभिभावकों ने विद्यालय में कक्षा कक्षों की कमी बताई है कई बार विद्यालय में कक्षा कक्षों की समस्या के बारे में जनप्रतिनिधियों से लेकर शिक्षा विभाग के अधिकारियों को भी अवगत करा दिया है लेकिन अभी तक कक्षा कक्षों का निर्माण नहीं हुआ है।

स्कूल के शौचालय बदहाल छात्र परेशान:-
स्थानीय विद्यालय में कक्षा कक्षों की तो कमी है ही शौचालयों में पानी की व्यवस्था नहीं है इसके चलते स्कूल के शौचालय बदहाल बने हुए हैं ऐसे में स्कूल के छात्र छात्राओं को काफी परेशानियों से जूझना पड़ता है शौचालय में सफाई व्यवस्था नहीं है ना ही कोई पानी की व्यवस्था रहती है ऐसे में स्कूल में स्वच्छ भारत मिशन की धज्जियां भी साफ तौर पर उड़ती दिखाई दे रही हैं एक और संस्था प्रधान भी कोई ध्यान नहीं दे रहे हैं छात्रों के अभिभावकों का कहना है कि कई बार स्कूल से बालिका छात्राओं को शौचालय के लिए स्कूल से घर आना पड़ता है जबकि सरकारी स्कूलों में बेहतर शिक्षा और कक्षा कक्ष और शौचालय सुविधा मुहैया कराने के लिए लाखों करोड़ों रुपए का बजट भेजती है लेकिन धरातल पर स्थिति कुछ और ही बयां हो रही है।

खुले आसमान के नीचे संचालित कक्षाएं:-
विद्यालय कक्षा कक्षों की कमी होने के कारण सर्दी गर्मी बरसात के मौसम में स्कूल के छात्रों को काफी परेशानियों से जूझना पड़ता है कई बार तो तेज बारिश होने पर स्कूल में बैठने की व्यवस्था तक नहीं रहती है तो सर्दी के मौसम में खुले आसमान के नीचे पढ़ाई करना मजबूरी का कारण बना हुआ है शिक्षा विभाग को विद्यालय में कक्षा कक्षों का निर्माण करवाना चाहिए ताकि नियमित रूप से शिक्षण व्यवस्था संचालित हो सके।

वर्जन
विद्यालय में एक से आठवीं तक की कक्षाएं संचालित हैं और कमरे चार ही हैं वह भी पुराने हो चुके हैं बरसात में पानी टपकता रहता है और एक कक्ष में विद्यालय का ऑफिस संचालित होता है तो तीन कमरों में सभी कक्षाओं को बिठाकर पढ़ाई करवाई जाती है ऐसे में ठीक तरीके से बच्चों की पढ़ाई नहीं हो पाती है विद्यालय में कक्षा कक्षों का निर्माण करवाना चाहिए इस संबंध में कई बार उच्चाधिकारियों को अवगत भी करा चुके हैं।
अरविंद मेहता भाजपा युवा मोर्चा मंडल अध्यक्ष

2
विद्यालय में कक्षा कक्षों की कमी शुरू से बनी हुई है शिक्षा विभाग को भी कई बार अवगत करा दिया है स्कूल में कक्षा कक्षों का निर्माण करवाना चाहिए ताकि शिक्षण कार्य में किसी तरह की परेशानी ना हो।

राधेश्याम मेहता ग्रामीण

3
तेलनी विद्यालय में चार भवन है एक में ऑफिस संचालित है और 3 कमरों में छात्रों को बैठने की जगह है। कोई समस्या नहीं है खुले आसमान के नीचे कक्षाएं लगाकर पढ़ाई करवाई जाती है।
संजय मीणा कार्यवाहक प्रधानाध्यापक तेलनी

4
स्कूलों में भवनों की कमी है इसके लिए जिला निष्पादन समिति की बैठक होती है ब्लॉक निष्पादन कमेटी की बैठक होती है उसमें स्कूल की सारी समस्याओं मैं स्कूल के मुद्दों पर चर्चा होती है उच्च अधिकारियों को अवगत भी करा रखा है शौचालय में संस्था प्रधान को साफ सफाई रखना चाहिए और बच्चों की समस्याओं पर ध्यान देना चाहिए।
सिराज मंसूरी सीबीओ शाहबाद

 

Check Also

शाहबाद आदिवासी अंचल क्षेत्र में हर्षोल्लास के साथ मनाया गया होली का पर्व 

🔊 इस खबर को सुने

error: Content is protected !!